beauty2 heart-circle sports-fitness food-nutrition herbs-supplements

सही हैंड सेनिटाइज़र कैसे चुनें

हैंड सैनिटाइज़र संक्रामक कीटाणुओं के प्रसार को रोकने में मदद कर सकते हैं, हालांकि, कई सैनिटाइज़र ऐसे अप्रिय रसायनों से युक्त होते हैं जो फायदे से ज्यादा हानि पहुँचा सकते हैं। यही कारण है कि कई लोग व्यावसायिक रूप से उपलब्ध उत्पादों केप्राकृतिक विकल्पों की तलाश करने लगे हैं। प्रत्येक हैंड सैनिटाइज़र के बारे में सच्चाई जानने के लिए, लेबलों को पढ़ना महत्वपूर्ण होता है।

हैंड सैनिटाइज़र के हानिकारक घटक

चूंकि हैंड सैनिटाइज़र में कई अप्रिय रसायन होते हैं, कई लोग इसके लाभों पर सवाल उठाते हैं। ये रसायन एलर्जिक प्रतिक्रियाएं, शरीर की प्राकृतिक प्रतिरक्षा प्रणाली में क्षति, शुष्क त्वचा, हारमोन संबंधी असंतुलन इत्यादि उत्पन्न कर सकते हैं। कुछ घटक तो ज्ञात कैंसरकारी तत्व भी हैं, जैसे प्रोपाइलीन ग्लाइकॉल और इथाइल अल्कोहल। अमेरिका का संघीय औषधि प्रशासन हैंड सैनिटाइज़र में पाए जाने वाले कुछ हानिकारक घटकों पर प्रतिबंध लगाने की तैयारी कर रहा है। खास तौर पर, सैनिटाइज़र उत्पादों में ट्राइक्लोसैन नामक योगज हाल के वर्षों में अत्यधिक विवादास्पद रहा है। तथापि, कुछ बुरे रसायन अब भी वैध हैं। इसी वजह से हैंड सैनिटाइज़र खरीदने से पहले घटकों की सूची को पढ़ना महत्वपूर्ण है। बचने योग्य कुछ अन्य घटकों में सोडियम लॉरिल सल्फेट, जो औद्योगिक क्लीनरों में प्रयुक्त एक अप्रिय रसायन है, और कृत्रिम रंग, जिन्हें कोल तार से बनाया जाता है, शामिल हैं। कम से कम किसी अल्कोहल-रहित सैनिटाइज़र की तलाश करने की कोशिश करें जो सौम्य और प्राकृतिक घटकों से युक्त हो। 

प्राकृतिक और ऑर्गैनिक हैंड सैनिटाइज़र

कई हैंड सैनिटाइज़र्स का विज्ञापन प्राकृतिक के रूप में किया जाता है, लेकिन "प्राकृतिक" एक तुलनात्मक शब्द है। इसका मतलब है कि ऐसे कई सैनिटाइज़र्स, जिन्हें पूरी तरह से प्राकृतिक माना जाता है, में अब भी हानिकारक घटक हो सकते हैं और संभव है कि वे कुछ अधिक सस्ते विकल्पों से बेहतर न हों। ऑर्गैनिक से धोखा भी हो सकता है क्योंकि कुछ ब्रांड इस शब्द का उपयोग करते हैं, भले ही उनके सभी उत्पादों को संभवतः ऑर्गैनिक के रूप में प्रमाणित नहीं किया गया हो। घटकों की सूची को देखकर इस बात का ठीक-ठीक अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि उनमें से कितने वास्तव में प्राकृतिक हैं या ऑर्गैनिक। प्रत्येक ऑर्गैनिक घटक को पैकेजिंग पर उसी तरह से सूचीबद्ध करना चाहिए।

हैंड सैनिटाइज़र पर लगे लेबल को पढ़ें

हैंड सैनिटाइज़र खरीदने से पहले लेबल को पढ़ने से सुविज्ञ निर्णय करने के लिए जरूरी आवश्यक जानकारी मिल सकती है। तथापि, यह आवश्यक नहीं है कि सूची में सभी घटकों के नाम दिए जाएं। इत्र का स्रोत और ट्राइक्लोसैन को मिलाया जाना दो उदाहरण हैं जिन्हें यह सुनिश्चित करने के लिए शोध की जरूरत पड़ सकती है कि हैंड सैनिटाइज़र पूर्णतः सुरक्षित है। एफडीए हमेशा अपनी वेबसाइट पर ज्ञात कैंसरकारी तत्वों की सूची प्रदान करता है ताकि उपभोक्ता जान सकें कि हैंड सैनिटाइज़र के किन घटकों से बचना चाहिए।

त्वचा संवेदनशील होती है। यही वजह है कि 90% से अधिक व्यावसायिक रूप से उपलब्ध हैंड सैनिटाइज़र्स में पाए जाने वाले हानिकारक रसायनों के संपर्क में कभी नहीं आना चाहिए। हमेशा लेबलों को पढ़ें और उन छिपे हुए अप्रिय रसायनों की तलाश करें जिनके बारे में कंपनियाँ उपभोक्ताओं को बताना नहीं चाहती हैं। सैनिटाइज़र्स के सागर में कुछ रत्न छिपे हैं जो त्वचा को साफ और शरीर को स्वस्थ रख सकते हैं। प्राकृतिक और ऑर्गैनिक हैंड सैनिटाइज़र स्वास्थ्य पर सचमुच सकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। थोड़े से शोध से ऐसे सैनिटाइज़र का पता लगाना संभव है जो शरीर को तकलीफ दिए बिना उसकी मदद कर सकता है।

संबंधित लेख

सभी देखें

सौंदर्य

पूरी तरह से मुँहासों के उपचार के सर्वोत्तम सुझाव

सौंदर्य

फाइटोस्टेरॉल क्या हैं? इस संघटक के साथ त्वचा को प्लम्प और हाइड्रेट करें!

सौंदर्य

क्यों पिकनोजिनोल (देवदार की छाल का रस) त्वचा-देखभाल उद्योग का अगला शहंशाह है