checkoutarrow
IN
24/7 सहायता
beauty2 heart-circle sports-fitness food-nutrition herbs-supplements

रक्तचाप को कम करने की 8 प्राकृतिक पद्धतियाँ

एरिक मैड्रिड एमडी द्वारा

इस लेख में:


उच्च रक्तचाप, जिसे अतिरक्तदाब के रूप में भी जाना जाता है, एक सामान्य स्थिति है जिसमें धमनियों में बढ़ते दबाव और कठोरता के कारण हृदय को वांछित से अधिक रक्त पंप करना पड़ता है। दुनिया भर में सैकड़ों लाखों लोगों - हर चार वयस्कों में से एक - को प्रभावित करने वाली इस स्थिति से अक्सर कोई लक्षण पैदा नहीं होता है, जिससे कई लोगों में उच्च रक्तचाप का पता ही नहीं लगता। इस कारण से, उच्च रक्तचाप को "मूक हत्यारा" कहा जाता है। उच्च रक्तचाप को दिल के दौरे, स्ट्रोक, दिल की विफलता और गुर्दे की बीमारी के जोखिम को बढ़ाने के लिए जाना जाता है, खासकर तब जब इसका उपचार ना किया जाए। 

रक्तचाप में दो संख्याएं होती हैं, पारंपरिक रूप से इसे मिलीमीटर मरकरी (mmHg) में मापा जाता है। पहली संख्या प्रकुंचन दाब है और दूसरी संख्या सकुंचन दाब दर्शाती है। रक्तचाप को 120/80 (प्रकुंचन/सकुंचन) के रूप में व्यक्त किया जाता है। 

  • प्रकुंचन रक्त दाब: वह दाब जो रक्त पंप करते समय आपका हृदय आपकी धमनियों पर डालता है।
  • सकुंचन रक्त दाब: हृदय द्वारा रक्त पंप नहीं करते समय धमनियों में मौजूद दाब। 

उच्च रक्तचाप वाले लोगों को अपने व्यक्तिगत चिकित्सक की देखरेख में होना चाहिए। 

रक्तचाप की व्याख्या:

  • सामान्य रक्तचाप: <120 / 80
  • उच्च रक्तचाप: >120-129/ 80-89
  • उच्च रक्तचाप (चरण 1): 130-139/ 80-99
  • उच्च रक्तचाप (चरण 2): 140/90 से अधिक

*बच्चों के लिए मान अलग होते हैं

उच्च रक्तचाप के कारण क्या हैं?

उच्च रक्तचाप के कई कारण हैं, जिनमें शारीरिक गतिविधि की कमी, खराब आहार, अधिक वजन, मोटापा, इंसुलिन प्रतिरोध, प्रीडायबिटीज, मधुमेह, किडनी रोग, कुछ दवाएं और आनुवांशिकी शामिल हैं। हालांकि, यह किसी अन्य विशिष्ट कारण के बिना उम्र बढ़ने के परिणामस्वरूप हो सकता है। 

क्या उच्च रक्तचाप को संभाला जा सकता है?

अगर आपका रक्तचाप उच्च या चरण-एक की सीमा में हैं, तो जीवनशैली में बदलाव आपके रक्तचाप को सामान्य करने में मदद करने के लिए पर्याप्त हो सकता है - अक्सर कई बार उन लोगों का उपचार केवल आहार में सुधार और व्यायाम के साथ किया जा सकता है जिनमें उच्च रक्तचाप का प्रारंभिक स्थिति में ही पता चल जाता है। हालांकि, आमतौर पर यह सलाह उन लोगों को दी जाती है जिनमें बहुत कम जोखिम कारक होते हैं और वे तत्काल जीवन शैली में बदलाव करने के प्रति समर्पित और इच्छुक होते हैं, जिसमें डिजिटल रक्तचाप मॉनिटर के साथ घरेलू रक्तचाप की निगरानी शामिल है। 

सब्जी, मेवे, और ताजे फलों से भरपूर आहार फायदेमंद हो सकता हैं क्योंकिं वेपोटैशियम, मैग्नीशियम, औरकैल्शियम प्रदान करते हैं, ये सभी संचार प्रणाली को संतुलित और स्वस्थ करने में मदद करते हैं। 

उच्च रक्तचाप का पारंपरिक इलाज

विज्ञान और दवा उद्योग की प्रगति की वजह से, चिकित्सक और रोगी उच्च रक्तचाप का इलाज और बाद में इससे जुड़े खतरों को कम कर सके हैं। पिछले कई दशकों में, उच्च रक्तचाप की दवाओं का उपयोग बढ़े हुए रक्तचाप को कम करने के प्राथमिक साधन के रूप में किया गया है। 

आमतौर पर उपयोग की जाने वाली रक्तचाप दवाओं और वे किस वर्ग से संबंधित हैं की सूची नीचे दी गई है। मैंने बहुत बार नहीं, लेकिन कभी-कभी अपने रोगियों के लिए उन सभी दवाओं का इस्तेमाल किया है। जबकि उनकी प्रभावशीलता के बारे में बहुत कम सवाल है, लेकिन उनके दुष्प्रभाव कई लोगों के लिए एक चिंता का विषय है। ज्यादातर मामलों में, हालांकि, लाभ की अपेक्षा जोखिम अधिक होते हैं। अक्सर, एक व्यक्ति अपने रक्तचाप को नियंत्रित करने के लिए विभिन्न वर्गों से दो या अधिक दवाएं लेता है। 

आमतौर पर इस्तेमाल की जाने वाली रक्तचाप दवाएँ

  • बीटा-ब्लॉकर्स (एटेनोलोल, मेटोप्रोलोल, कार्वेडिलोल, सोटलोल)
  • कैल्शियम चैनल ब्लॉकर्स (एम्लोडिपाइन, डिल्टियाजेम, निफेडिपिन)
  • मूत्रवर्धक (हाइड्रोक्लोरोथियाज़ाइड, ट्रायमटेरिन, क्लोर्थलिडोन, स्पिरोनोलैक्टोन) या "वाटर पिल्स"
  • ऐस अवरोधक (लिसिनोप्रिल, बेनज़िप्रिल, एनालाप्रिल, रैमीप्रिल, फॉसिनोप्रिल)
  • एंजियोटेंसिन रिसेप्टर ब्लॉकर्स (ओल्मेसार्टन, लोसार्टन, इरबेसार्टन)
  • अल्फा-ब्लॉकर्स (क्लोनीडाइन)
  • वैसोडाइलेटर (हाइड्रैलाज़िन)

रक्तचाप के लिए प्राकृतिक चिकित्साएं

  • सब्जियों और फलों से भरपूर आहार
  • वजन घटना
  • तनाव में कमी और नियमित व्यायाम
  • प्रार्थना सहित ध्यान और विश्रांति तकनीक
  • पूरक'

पूरक जो रक्तचाप कम करने में मदद कर सकते हैं 

नीचे हम उन पूरकों की चर्चा करेंगे जिन्हें रक्तचाप को कम करने में मदद करते हुए दर्शाया गया है। अगर आप चिकित्सक द्वारा लिखी दवाएं ले रहे हैं, तो अपनी दवाओं के समायोजन के रूप में एक पूरक शुरू करने से पहले अपने व्यक्तिगत चिकित्सक से परामर्श करें। 

चुकंदर का रस

चुकंदर सहित कई सब्जियों में नाइट्रेट की उच्च सांद्रता होती है, जिनका सेवन करने पर उन्हें आमतौर पर मानव मुंह में मौजूद बैक्टीरिया द्वारा नाइट्राइट में बदला जा सकता है। नाइट्राइट्स लार में घुल जाते हैं, और अंदर जाने पर ये रक्त में अवशोषित हो जाते हैं, जहां वे नाइट्रस ऑक्साइड में बदल जाते हैं, जो रक्त वाहिकाओं के लिए एक शक्तिशाली वैसोडाइलेटर का काम करती है। इससे रक्तचाप कम होता है।चुकंदर के रस में, विशेष रूप से अकार्बनिक NO3 की उच्च सांद्रता होती है।

British Journal of Nutrition में वर्ष 2012 के एक अध्ययन ने चुकंदर के सेवन और प्लेसिबो की तुलना की। जब कम-से-कम 100 ग्राम चुकंदर का सेवन किया गया तब परिणामों में रक्तचाप में उल्लेखनीय कमी देखी गई। Journal of Nutrition में वर्ष 2013 के एक अध्ययन से पता चला कि अकार्बनिक नाइट्रेट्स से भरपूर चुकंदर के रस के सेवन से प्रकुंचन रक्त दाब में उल्लेखनीय कमी आई है। कुल मिलाकर, 254 लोगों को अध्ययनों में शामिल किया गया था।

वर्ष 2014 के एक अध्ययन में अधिक वजन वाले व्यक्तियों में चुकंदर पूरकता के प्रभाव का मूल्यांकन किया गया था। जिन लोगों ने इसका सेवन किया, उनके रक्तचाप में सात अंकों की कमी देखी गई। और, European Journal of Nutrition में वर्ष 2016 के एक अध्ययन से पता चला कि चुकंदर पूरकता से एंडोथेलियल फंक्शन को बेहतर बनाने में मदद मिली, जिससे संभवत: उस तंत्र की व्याख्या होती है जिसके द्वारा रक्तचाप में सुधार होता है।

अंत में, Advances in Nutrition में वर्ष 2017 के एक मेटा-विश्लेषण से पता चला कि चुकंदर के रस के सेवन से रक्तचाप के मानों में 3.55/1.22 mmHg की कमी आई है। यह समग्र संवहनी स्वास्थ्य में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। 

सुझाई गई खुराक: जैसा कि लेबल पर निर्देशित है।

कोएंजाइम Q10 

कोएंजाइम Q10 (CoQ10), जिसे उबीक्विनोन के नाम से भी जाना जाता है, जो जीवन के लिए आवश्यक प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाला एक एंटीऑक्सीडेंट पोषक तत्व है। कोएंजाइम Q10 कोशिकाओं के लिए ऊर्जा उत्पन्न करने हेतु आवश्यक है। ऐसा मुख्य रूप से कोशिका के एक भाग में किया जाता है जिसे माइटोकॉन्ड्रिया कहते हैं, कोशीय "पॉवरप्लांट" जो शरीर में ऊर्जा उत्पन्न करता है। 

चूंकि हृदय सभी अंगों में सबसे अधिक सक्रिय होता है, इसलिए यह अपनी चयापचय मांगों को पूरा करने के लिए सबसे अधिक CoQ10 का उत्पादन और उपयोग करता है। हालांकि, हृदय रोग वाले लोगों में, प्रकार्य को अनुकूलित करने में सहायता के लिए CoQ10 के उच्च स्तर की आवश्यकता होती है। 

Journal of Human Hypertension में वर्ष 2007 के एक अध्ययन ने निष्कर्ष निकाला की, “… कि कोएंजाइम Q10 महत्वपूर्ण दुष्प्रभावों के बिना उच्च रक्तचाप से ग्रस्त रोगियों में प्रकुंचन रक्त दाब को 17 mm Hg और सकुंचन रक्त दाब को 10 mm Hg तक कम करने की क्षमता रखता है।” अध्ययन एक मेटा-विश्लेषण था जिसमें 12 परीक्षणों का परीक्षण किया गया था और इसमें 362 रोगी शामिल थे। 

जापान के पुरुष खिलाड़ियों पर वर्ष 2015 में एक डबल-ब्लाइंड, यादृच्छिक नियंत्रित अध्ययन किया गया, जिसमें उन्होंने प्रति दिन 600 मिलीग्राम CoQ10 का सेवन किया, 10 दिनों बाद इन खिलाड़ियों में सकुंचन रक्त दाब में उल्लेखनीय कमी देखी गई। 

उच्च रक्तचाप के लिए Mayo Clinic भी CoQ10 का समर्थन करता है जैसा कि Annals of Medicine के वर्ष 2015 के एक अध्ययन में किया गया है। हालांकि, Cochrane में वर्ष 2016 के अध्ययन की समीक्षाओं में रक्तचाप कम करने में महत्वपूर्ण लाभ नहीं देखा गया। 

प्रभाव में जरा सा भेद किया जा सकता है। वर्ष 2018 के एक अध्ययन जिसमें 17 यादृच्छिक नियंत्रित परीक्षणों का परीक्षण किया गया जिसमें 684 प्रतिभागी शामिल थे, ने निष्कर्ष निकाला कि, “CoQ10 पूरकता प्रकुंचन रक्त दाब (SBP) स्तरों में कमी कर सकती है, लेकिन इससे चयापचय रोगों वाले रोगियों में सकुंचन रक्त दाब (DBP) पर कोई प्रभाव नहीं हुआ।”

सुझाई गई खुराक: प्रति दिन 100 मिलीग्राम से 300 मिलीग्राम। 600 मिलीग्राम तक की खुराक फायदेमंद हो सकती है।

नागफनी बेरी

नागफनी बेरी छोटे फल होते हैं जो क्रेटेगस जाति से संबंधित झाड़ियों या पेड़ों पर उगते हैं। सैकड़ों वर्षों से औषधीय प्रयोजनों के लिए इनका उपयोग किया जा रहा है और पारंपरिक चीनी चिकित्सा (TCM) में इनके उपयोग का पता लगया जा सकता है। इन बेरीज़ का उपयोग हृदय स्वास्थ्य, रक्तचाप कम करने और पाचन संबंधी समस्याओं के लिए भी किया जाता है। नागफनी बेरी में एंटीऑक्सिडेंट, विशेष रूप से पॉलीफेनोल्स, की भरपूर मात्रा होती है, जिसमें शोथरोधी गुण भी हैं। 

उच्च रक्तचाप वाले 36 लोगों के वर्ष 2002 के एक अध्ययन से यह पता चला कि 500 मिलीग्राम नागफनी बेरी सकुंचन (नीचे वाली संख्या) रक्त दाब को कम करने में मदद कर सकती है। हालांकि, इस अध्ययन से प्रकुंचन रक्त दाब, शीर्ष संख्या को कम करने के लाभ का पता नहीं लग सका।

British Journal of General Practice में वर्ष 2006 के एक अध्ययन ने समग्र रक्तचाप मानों को कम करने में नागफनी बेरी के लाभ को दर्शाया है। अध्ययन में, टाइप 2 मधुमेह वाले 79 रोगियों को दो समूहों में विभाजित किया गया। उनतालीस रोगियों को 1200 मिलीग्राम नागफनी बेरी पूरक, जबकि अन्य 40 को प्लेसिबो गोली दी गई। 16 हफ्तों तक रोगियों का निरिक्षण किया गया। परिणाम से पता चला है कि नागफनी पूरक लेने वाले रोगियों के रक्तचाप में तीन से पांच अंकों की कमी थी - जबकि प्लेसिबो लेने वाले रोगियों में कोई कमी नहीं देखी गई। कोई दुष्प्रभाव नहीं पाए गए। 

सुझाई गई खुराक: 1200 मिलीग्राम दिन में एक बार या 600 मिलीग्राम दिन में दो बार। 

अंगूर के बीज का अर्क

अंगूर के बीज का अर्क यह वास्तव में वही है जो इसका नाम बताता है, और इसमें कई संभावित स्वास्थ्य वर्धक गुण होते हैं। रक्तचाप-कम करने वाले लाभों के अलावा, अंगूर के बीज का अर्क प्रतिरक्षा प्रणाली को भी सशक्त कर सकता है। 

वर्ष 2011 में शोधकर्ताओं ने निष्कर्ष निकाला कि अंगूर के बीज का अर्क रक्तचाप को उल्लेखनीय रूप से कम कर सकता है और सुरक्षित रूप से हृदय की गति को कम कर सकता है। Medicine में वर्ष 2016 के एक अध्ययन ने 810 व्यक्तियों वाले 16 परीक्षणों की समीक्षा की और पाया कि जिन लोगों ने अंगूर के बीज के अर्क का सेवन किया उनमें प्रकुंचन और सकुंचन रक्त दाब दोनों में उल्लेखनीय कमी आई थी। शोधकर्ताओं ने निष्कर्ष निकाला, “हमारे निष्कर्षों से पता चलता है कि अंगूर के बीज का अर्क रक्तचाप पर लाभकारी प्रभाव डालता है, और यह प्रभाव युवा या मोटे व्यक्तियों के साथ-साथ चयापचय संबंधी विकारों के रोगियों में अधिक स्पष्ट था।”

वर्ष 2016 के एक अध्ययन में पूर्व-उच्च रक्तचाप, जिसका अर्थ है कि उन्हें उच्च रक्तचाप होने का खतरा था लेकिन दवा उपचार की आवश्यकता नहीं थी, से पीड़ित लोगों में प्लेसिबो गोली की तुलना में रक्तचाप को कम करने की क्षमता का मूल्यांकन किया गया था। 12-सप्ताह की अवधि के एक यादृच्छिक, डबल-ब्लाइंड प्लेसिबो-नियंत्रित अध्ययन में, जिन लोगों ने अंगूर के बीज का अर्क लिया, उनके प्रकुंचन रक्त दाब (शीर्ष संख्या) में 5.6% की कमी देखी गई और उनके सकुंचन रक्त दाब (नीचे की संख्या) में 4.6% की कमी देखी गई।

अंत में, पूर्व-उच्च रक्तचाप वाले पुरुषों के वर्ष 2018 के एक अध्ययन में पाया गया कि जिन लोगों ने 300 मिलीग्राम अंगूर के बीज का अर्क लिया, उनके रक्तचाप में उन लोगों की तुलना में काफी कमी आई, जिन्होंने प्लेसिबो गोली ली। एक अध्ययन ने सुझाव दिया कि अंगूर के बीज के अर्क को विटामिन सी के साथ नहीं लिया जाना चाहिए, जो अक्सर रक्तचाप को कम कर सकता है, क्योंकि संयोजन विरोधाभासी रूप से रक्तचाप को बढ़ा सकता है। 

सुझाई गई खुराक: प्रति दिन 100 से 300 मिलीग्राम। 

एल-आर्जिनिन

एल-आर्जिनिन एक अमीनो एसिड, प्रोटीन का एक बिल्डिंग ब्लॉक, है। यह मुख्य रूप से लाल मीट, समुद्री खाद्य पदार्थों, पोल्ट्री और डेयरी उत्पादों में पाया जाता है और इसे अर्ध-आवश्यक या सशर्त रूप से आवश्यक अमीनो एसिड माना जाता है। एल-आर्जिनिन, NO या नाइट्रिक ऑक्साइड का का अग्रदूत है जो रक्त वाहिकाओं का शक्तिशाली वैसोडाइलेटर है । अध्ययनों के अनुसार, यह रक्तचाप को कम करने में फायदेमंद हो सकता है। 

American Heart Journal में वर्ष 2011 के एक अध्ययन में इसके लाभ दर्शाए गए हैं। शोधकर्ताओं ने 11 यादृच्छिक, डबल-ब्लाइंड प्लेसिबो-नियंत्रित परीक्षणों का मूल्यांकन किया। इन अध्ययनों में कुल मिलाकर उच्च रक्तचाप वाले 387 रोगियों का परीक्षण किया गया। प्रति दिन ली जाने वाली एल-आर्जिनिन की खुराक की सीमा 4 से 24 ग्राम थी। प्रकुंचन रक्त दाब में 5.4 mm/ Hg, जबकि सकुंचन रक्त दाब में 2.7 mm/ Hg की कमी हुई थी। 

इसके अलावा, वर्ष 2017 के एक अध्ययन से पता चला है कि एल-आर्जिनिन युक्त पूरक उन लोगों की तुलना में रक्तचाप कम करने में मदद कर सकता है जिन्होंने प्लेसिबो गोली का सेवन किया था। वर्ष 2018 के एक अध्ययन से पता चला है कि बी विटामिन के साथ-साथ एल-आर्जिनिन का पूरक उच्च रक्तचाप वाले लोगों में समग्र रक्तचाप को काफी कम कर सकता है। 

सुझाई गई खुराक: प्रति दिन 1,000 मिलीग्राम से 6,000 मिलीग्राम। 

मैग्नीशियम

यह अनुमान लगाया गया है कि 60 प्रतिशत व्यस्क पर्याप्त मात्रा में मैग्नीशियम का सेवन नहीं करते हैं, और 45 प्रतिशत व्यस्कों में चिकित्सकीय रूप से मैग्नीशियम की कमी है। सामान्य तौर पर, पिछले 100 वर्षों में अधिकांश फलों और सब्जियों की मैग्नीशियम की मात्रा में गिरावट आई है। मैग्नीशियम मानव शरीर के भीतर 400 से अधिक जैव रासायनिक प्रतिक्रियाओं में शामिल होता है और एक प्राकृतिक कैल्शियम चैनल अवरोधक के रूप में कार्य करता है, रक्तचाप-कम करने वाली दवाओं का एक वर्ग जिसका उपयोग दवा कंपनियों ने करना सीख लिया है। 

वर्ष 2011 के एक अध्ययन से पता चला कि मैग्नीशियम 5.6/2.8 mmHg तक रक्तचाप कम कर सकता है, जो सांख्यिकीय रूप से महत्वपूर्ण है और चिकित्सक द्वारा लिखी कुछ दवाओं के सदृश है। इसके अलावा, वर्ष 2011 में एक अध्ययन में निष्कर्ष निकाला गया कि , "मौखिक मैग्नीशियम एक प्राकृतिक कैल्शियम चैनल अवरोधक के रूप में कार्य करता है, जो नाइट्रिक ऑक्साइड को बढ़ाता है, एंडोथेलियल दुष्क्रिया में सुधार करता है, और प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष वैसोडाइलेशन को प्रेरित करता है"। रक्तचाप-कम करने वाली दवा से इन सभी क्रियाओं की अपेक्षा की जाती है। 

वर्ष 2016 के डबल-ब्लाइंड-प्लेसिबो-नियंत्रित अध्ययनों के मेटा-विश्लेषण अध्ययन में पाया गया कि मैग्नीशियम पूरकता रक्तचाप को कम कर सकती है। और, American Journal of Clinical Nutrition में प्रकाशित वर्ष 2017 के यादृच्छिक नियंत्रित परीक्षणों के मेटा-विश्लेषण से पता चला कि इंसुलिन प्रतिरोध और पूर्व मधुमेह वाले लोगों में मैग्नीशियम पूरकता प्रकुंचन और सकुंचन रक्त दाब दोनों में उल्लेखनीय ढंग से कमी करती है। 

सुझाई गई खुराक: प्रति दिन 250-500 मिलीग्राम

ओमेगा-3 फैटी एसिड्स

ओमेगा-3 फैटी एसिड्स, पॉलीअनसेचुरेटेड फैटी एसिड्स या PUFAs के रूप में भी जाना जाता है, समग्र मानव स्वास्थ्य में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। माना जाता है कि इनमें हृदय, मस्तिष्क, आंत और जोड़ों के लिए अनेक लाभ मौजूद हैं। ओमेगा-3 फैटी एसिड्स रक्तचाप को भी कम करने में मदद कर सकते हैं। ये महत्वपूर्ण पोषक तत्व विभिन्न खाद्य स्रोतों में पाए जा सकते हैं, जिनमें क्रिल तेल, मछली (मैकेरल, कॉड और सैल्मन में ये भरपूर मात्रा में होते हैं), अखरोट, चिया के बीज, अलसी के बीज, भांग के बीज, एवोकैडो, और नाट्टो शामिल हैं।

Journal of Hypertension में प्रकाशित वर्ष 2009 के एक यादृच्छिक नियंत्रित परीक्षण से पता चला कि प्रति दिन ओमेगा-3 फैटी एसिड की 4 ग्राम (4,000 मिलीग्राम) खुराक लेने से रक्तचाप कम करने में मदद मिल सकती है। American Journal of Hypertension के वर्ष 2014 के अध्ययन से पता चला कि प्रति दिन 2 ग्राम (2,000 मिलीग्राम) DHA/EPA के सेवन से प्रकुंचन रक्त दाब और सकुंचन रक्त दाब (निचली संख्या) में भी कमी हुई थी। वर्ष 2014 के इस अध्ययन में कुल मिलाकर 70 यादृच्छिक नियंत्रित परीक्षणों का मूल्यांकन किया गया।

अंत में, Journal of Nutrition में वर्ष 2016 के अध्ययन से पता चला कि प्रति दिन कम से कम 700 मिलीग्राम मछली के तेल के सेवन से रक्तचाप कम करने में उल्लेखनीय रूप से मदद मिल सकती है। वर्ष 2017 के एक अध्ययन के अनुसार, ओमेगा-3 फैटी एसिड से संवहनी प्रकार्य और रक्तचाप कम करने दोनों में महत्वपूर्ण सुधार हुआ। 

सुझाई गई खुराक: प्रति दिन 1,000 से 4000 मिलीग्राम। 

विटामिन सी (एस्कॉर्बिक एसिड)

विटामिन सी, एस्कॉर्बिक एसिड या एस्कॉर्बेट के रूप में भी जाना जाता है, पिछले 50 वर्षों में सबसे अधिक शोधित विटामिनों में से एक है। वैज्ञानिक साहित्य की एक खोज से पता चलता है कि 1960 के दशक के अंत से विटामिन सी पर 53,000 से अधिक अध्ययन किए गए हैं। उनके निष्कर्षों से पता चलता है कि यह मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली के साथ-साथ हृदय, मस्तिष्क और त्वचा के स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में मदद करता है, जो इसके कई अन्य लाभों में से कुछ हैं। रक्तचाप कम करना भी एक लाभ हो सकता है, और इसके विपरीत, रक्त में विटामिन सी का निम्न स्तर उच्च रक्तचाप के स्तर से संबंधित होता है। 

Journal of Hypertension में वर्ष 2000 के एक अध्ययन में पाया गया कि “बड़ी उम्र के वयस्कों में, उच्च प्रकुंचन रक्त दाब को कम करने पर एस्कॉर्बिक एसिड के उच्च सेवन का मामूली प्रभाव होता है, जो उच्च विटामिन सी के सेवन और हृदय रोग तथा स्ट्रोक के कम जोखिम के बीच सूचित सहयोग में योगदान कर सकता है।”

इसी तरह, वर्ष 2012 के एक अध्ययन में निष्कर्ष निकाला गया कि विटामिन सी की खुराक प्रकुंचन और संकुचन रक्त दाब को कम कर सकती है। अध्ययन में 29 परीक्षणों की समीक्षा की गई और कुल मिलाकर SBP में चार से पांच अंकों की कमी देखी गई जबकि DBP में एक से दो अंकों की कमी देखी गई। प्रति दिन विटामिन सी की 500 मिलीग्राम की खुराक का सेवन किया गया था।

सुझाई गई खुराक: प्रति दिन 500 से 1,000 मिलीग्राम

संदर्भ:

  1. Charles N. Alexander, Robert H. Schneider, et. al. Trial of Stress Reduction for Hypertension in Older African Americans: II. Sex and Risk Subgroup Analysis Hypertension 28: 228-237, doi:10.1161/01.HYP.28.2.228
  2. British Journal of Nutrition. 2012 Dec 14;108(11):2066-74.
  3. Mario Siervo, Jose Lara, Ikponmwonsa Ogbonmwan, John C. Mathers, Inorganic Nitrate and Beetroot Juice Supplementation Reduces Blood Pressure in Adults: A Systematic Review and Meta-Analysis, The Journal of Nutrition, Volume 143, Issue 6, June 2013, Pages 818–826, https://doi.org/10.3945/jn.112.170233
  4. Nutr Res. 2014 Oct;34(10):868-75. doi: 10.1016/j.nutres.2014.09.007. Epub 2014 Sep 28.
  5. Eur J Nutr. 2016 Mar;55(2):451-459. doi: 10.1007/s00394-015-0872-7. Epub 2015 Mar 13.
  6. Bahadoran Z, Mirmiran P, Kabir A, Azizi F, Ghasemi A. The Nitrate-Independent Blood Pressure-Lowering Effect of Beetroot Juice: A Systematic Review and Meta-Analysis [published correction appears in Adv Nutr. 2018 May 1;9(3):274]. Adv Nutr. 2017;8(6):830–838. Published 2017 Nov 15. doi:10.3945/an.117.016717
  7. J Hum Hypertens. 2007 Apr;21(4):297-306. Epub 2007 Feb 8.
  8. J Sports Med Phys Fitness. 2015 Jul-Aug;55(7-8):797-804. Epub 2014 Nov 4.
  9. http://www.mayoclinic.org/drugs-supplements/coenzyme-q10/evidence/hrb-20059019
  10. Nutraceuticals for blood pressure control Cesare R. Sirtori, Anna Arnoldi & Arrigo F. G. Cicero Annals of Medicine Vol. 47 , Iss. 6,2015
  11. Phytother Res. 2002 Feb;16(1):48-54.
  12. Walker AF, Marakis G, Simpson E, et al. Hypotensive effects of hawthorn for patients with diabetes taking prescription drugs: a randomised controlled trial. Br J Gen Pract. 2006;56(527):437–443.
  13. J Am Diet Assoc. 2011 Aug;111(8):1173-81. doi: 10.1016/j.jada.2011.05.015.
  14. Zhang H, Liu S, Li L, et al. The impact of grape seed extract treatment on blood pressure changes: A meta-analysis of 16 randomized controlled trials. Medicine (Baltimore). 2016;95(33):e4247. doi:10.1097/MD.0000000000004247
  15. J Med Food. 2018 May;21(5):445-453. doi: 10.1089/jmf.2017.0133. Epub 2018 Apr 23.
  16. J Hypertens. 2005 Feb;23(2):427-34.
  17. Am Heart J. 2011 Dec;162(6):959-65. doi: 10.1016/j.ahj.2011.09.012. Epub 2011 Nov 8.
  18. Reule CA, Goyvaerts B, Schoen C. Effects of an L-arginine-based multi ingredient product on endothelial function in subjects with mild to moderate hypertension and hyperhomocysteinemia - a randomized, double-blind, placebo-controlled, cross-over trial. BMC Complement Altern Med. 2017;17(1):92. Published 2017 Feb 2. doi:10.1186/s12906-017-1603-9
  19. Menzel D, Haller H, Wilhelm M, Robenek H. L-Arginine and B vitamins improve endothelial function in subjects with mild to moderate blood pressure elevation. Eur J Nutr. 2018;57(2):557–568. doi:10.1007/s00394-016-1342-6
  20. Workinger JL, Doyle RP, Bortz J. Challenges in the Diagnosis of Magnesium Status. Nutrients. 2018;10(9):1202. Published 2018 Sep 1. doi:10.3390/nu10091202
  21. Foods, fortificants, and supplements: Where do Americans get their nutrients?
  22. Fulgoni VL 3rd, Keast DR, Bailey RL, Dwyer J J Nutr. 2011 Oct; 141(10):1847-54.
  23. J Clin Hypertens (Greenwich). 2011 Nov;13(11):843-7. doi: 10.1111/j.1751-7176.2011.00538.x. Epub 2011 Sep 26.
  24. Dibaba DT, Xun P, Song Y, Rosanoff A, Shechter M, He K. The effect of magnesium supplementation on blood pressure in individuals with insulin resistance, prediabetes, or noncommunicable chronic diseases: a meta-analysis of randomized controlled trials. Am J Clin Nutr. 2017;106(3):921–929. doi:10.3945/ajcn.117.155291
  25. J Hypertens. 2009 Sep;27(9):1863-72
  26. Miller PE, Van Elswyk M, Alexander DD. Long-chain omega-3 fatty acids eicosapentaenoic acid and docosahexaenoic acid and blood pressure: a meta-analysis of randomized controlled trials. Am J Hypertens. 2014;27(7):885–896. doi:10.1093/ajh/hpu024
  27. J Nutr. 2016 Mar;146(3):516-23. doi: 10.3945/jn.115.220475. Epub 2016 Jan 27.
  28. Nutr Metab Cardiovasc Dis. 2017 Mar;27(3):191-200. doi: 10.1016/j.numecd.2016.07.011. Epub 2016 Jul 26.
  29. Journal of Hypertension. 2000 Apr;18(4):411-5.
  30. Juraschek SP, Guallar E, Appel LJ, Miller ER 3rd. Effects of vitamin C supplementation on blood pressure: a meta-analysis of randomized controlled trials. Am J Clin Nutr. 2012;95(5):1079–1088. doi:10.3945/ajcn.111.027995

संबंधित लेख

सभी देखें

बीमारियाँ

3 प्रकार के सिरदर्द + कैसे उनकी रोकथाम करें और प्रत्येक का इलाज करें

बीमारियाँ

बड़ी आँत और बर्बरीन एक अध्ययन द्वारा इसके एंटीऑक्सिडेंट प्रभाव की पुष्टि की गई है।

बीमारियाँ

हाशिमोटो रोग में देखभाल संबंधी 6 प्राकृतिक तरीके