beauty2 heart-circle sports-fitness food-nutrition herbs-supplements
Wellness

स्पाइरुलिना और क्लोरेला: स्वस्थ लाभ के साथ शैवाल

16 सितंबर 2019

एरिक मैड्रिड एमडी द्वारा

इस लेख में:

 

जब भी आप “शैवाल”शब्द सुनते हैं तो आपके दिमाग में स्थिर पानी में बढ़ने वाली कीचड़ की छवियां दिमाग में आ सकती हैं, वास्तव में दुनिया भर के कई लोगों द्वारा इस पौधे को खाया जाता है। इसके दो सबसे सामान्य रूप हैं, क्लोरेलाऔर स्पाइरुलिना, आमतौर पर कैप्सूल और पाउडर दोनों तरह से उपलब्ध हैं और इनके कई स्वास्थ्य लाभ हैं। 

क्लोरेला 

is एक एककोशिकीय हरी शैवाल जो निम्नलिखित विटामिन, खनिज और पोषक तत्वों से समृद्ध है:

क्लोरेला का एंटीऑक्सिडेंट प्रभाव

ऑक्सीकरण वह प्रक्रिया है जिसके द्वारा हम बूढ़ें होते हैं और चिरकालिक बीमारी विकसित होती हैं। कुछ व्यवहार जैसे कि तंबाकू का उपयोग और अधिक शराब का सेवन अतिरिक्त ऑक्सीकरण का कारण बनते हैं और उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को तेज करते हैं। सिद्धांत रूप में, इस प्रक्रिया को धीमा करने के कई स्वास्थ्य लाभ हैं। 

शरीर को ऑक्सीकरण से बचाने में मदद करने के लिए आवश्यक संसाधन प्रदान करने में स्वस्थ आहार महत्वपूर्ण है। क्लोरेला भी एक भूमिका निभा सकता है। Nutrition में 2010 के एक अध्ययन में निष्कर्ष निकाला कि “… परिणाम क्लोरेला की एंटीऑक्सिडेंट भूमिका का समर्थन करते हैं और संकेत देते हैं कि क्लोरेला एक महत्वपूर्ण संपूर्ण फ़ूड सप्लीमेंट है जिसे स्वस्थ आहार के प्रमुख घटक के रूप में शामिल किया जाना चाहिए।” A 1995 अध्ययन ने क्लोरेला की एंटीऑक्सिडेंट स्थिति का भी प्रदर्शन किया।

क्लोरेला और रक्तचाप

उच्च रक्तचाप दिल के दौरे, गुर्दे की बीमारी और स्ट्रोक के लिए एक प्रमुख जोखिम कारक है। जबकि आहार और व्यायाम रक्तचाप को नियंत्रित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, कई लोग उचित रूप से चिकित्सक द्वारा लिखी दवाओं पर भी भरोसा करते हैं। 

हालांकि, कुछ अधिक प्राकृतिक पद्धतियाँ पसंद करते हैं, और क्लोरेला एक सप्लीमेंट है जो फायदेमंद हो सकता है। वर्ष 2006 में चूहों का उपयोग करके किए गए एक अध्ययन से पता चला कि क्लोरेला रक्तचाप को कम करने में मदद कर सकता है। क्लोरेला का यह लाभ वर्ष 1978 से पता है जब इसी तरह के अध्ययनों में रक्तचाप-कम करने वाले गुणों का पता चला था। हाल ही में, Clinical Nutrition में वर्ष 2018 के एक अध्ययन से पता चला है कि क्लोरेला सप्लीमेंटेशन परीक्षण विषयों में रक्तचाप को कम करने में मदद कर सकता है। उच्च रक्तचाप वाले लोगों को अपनी दवाओं को घटाने-बढ़ाने से पहले अपने चिकित्सक से सलाह लेनी चाहिए। 

क्लोरेला और कोलेस्ट्रॉल 

उच्च कोलेस्ट्रॉल को दिल के दौरे के लिए एक जोखिम कारक माना जाता है। कोलेस्ट्रॉल से जुड़े जोखिम को कम करने वाले लोगों के लिए इसके उत्तम स्तर को प्राप्त करना महत्वपूर्ण है, और चिकित्सों द्वारा लगातार दवाएं लिखी जाती हैं। 

लाल खमीरी चावल जैसे फ़ूड सप्लीमेंट के अतिरिक्त, कोलेस्ट्रॉल कम करने में मदद करने के लिए कुछ लोगों द्वारा क्लोरेला भी लिया गया है।Nutrition Journal में वर्ष 2017 के एक अध्ययन के अनुसार, क्लोरेला स्वस्थ कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बनाए रखने में मदद कर सकता है।. इसके अलावा, Clinical Nutrition में वर्ष 2018 के एक अध्ययन से पता चला है कि क्लोरेला सप्लीमेंटेशन भी कुल कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड दोनों के स्तरों को कम करने में मदद कर सकता है। 

क्लोरेला और रक्त शर्करा

दुनिया की आबादी का औसत वजन बढ़ जाने के कारण प्रीडायबिटीज और डायबिटीज की मौजूदगी प्रमुख रूप से बढ़ी है।। बढ़ी हुई रक्त शर्करा हृदय रोग, स्ट्रोक और मनोभ्रम का खतरा बढ़ाती है। चीनी और सरल कार्बोहाइड्रेट दोनों का कम सेवन महत्वपूर्ण है, और आहार की बारीकी से निगरानी की जानी चाहिए। इस लेख से पहले, मैंने डायबिटीज के लिए प्राकृतिक पद्धतियों। और जबकि मैंने क्लोरेला का उल्लेख नहीं किया, वर्ष 2015 के एक अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने दर्शाया कि यह सप्लीमेंट परीक्षण विषयों में ग्लूकोज के स्तर को कम करने में मदद कर सकता है। 

क्लोरेला और शरीर से विषाक्त पदार्थ बाहर निकालना

विषाक्त पदार्थों के जमाव को रोकने के लिए दूषित खाद्य पदार्थों और पानी से बचना मत्वपूर्ण है। इसके अलावा, विषाक्त पदार्थों को हटाने के लिए हमारे शरीर की क्षमता भी बहुत महत्वपूर्ण है। Drug and Chemical Toxicity में एक अध्ययन के अनुसार, वर्ष 1984 के बाद से पता लगाया गया है कि विषाक्त पदार्थों को निकालने के लिए यह विचार उपयोगी हो सकता है NAC जैसे सप्लीमेंट भी लाभदायक हो सकते हैं। 

स्पाइरुलिना 

स्पाइरुलिना को एक सुपरफ़ूड माना जाता है। यह आसानी से पचने वाला पौष्टिक सप्लीमेंट है, जो नीले-हरे शैवाल के परिवार से संबंधित है।स्पाइरुलिना का उपयोग सदियों पहले एज़्टेक द्वारा किया गया था, स्पेनिश विजेताओं के रिकॉर्ड के अनुसार - यह मेक्सिको की लेक टेक्सकोको में विकसित हुआ, और एज़्टेक ने इसका नाम तेकुइलति रखा। 

स्पाइरुलिना में निम्नलिखित विटामिन और खनिज होते हैं:

  • जिंक - त्वचा के स्वास्थ्य, मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली, और स्मरणशक्ति के लिए महत्वपूर्ण।
  • बी विटामिन - तंत्रिका तंत्र और हृदय स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण। उन लोगों के लिए यह एक शानदार विकल्प हैं जो शाकाहारी भोजन खाते हैं जिसमें अक्सरविटामिन बी12 भरपूर मात्रा में नहीं होता है। स्पाइरुलिना के दैनिक सप्लीमेंटेशन से विटामिन बी12 की अनुशंसित दैनिक अनुज्ञा (RDA) के अनुसार 60 प्रतिशत तक ज़रूरत पूरी हो सकती है।
  • गामा-लिनोलेनिक एसिड (GLA) - एक आवश्यक फैटी एसिड जो कई सब्जियों में पाया जाता है। यह एक ओमेगा-6 तेल है और इसके सूजन-रोधी लाभ हैं।

स्पाइरुलिना के स्वास्थ्य लाभ

स्पाइरुलिना प्रीबायोटिक के रूप में काम करता है और आंत में अन्य लाभकारी बैक्टीरिया के विकास में मदद करता है। इसमें क्लोरोफिल भी होता है, जो शरीर के ऊतकों को क्षारीय (pH स्तर को अनुकूलित करता है) बनाने में मदद करता है।

स्पाइरुलिना की एंटीऑक्सिडेंट शक्ति

स्पाइरुलिना में पाए जाने वाले यौगिकों में शामिल हैं क्लोरोफिल, बीटा कैरोटीन, ज़ीक्सान्थिन, और फाइकोसाइनिन, जो शक्तिशालीएंटीऑक्सीडेंट हैं जो फ्री रेडिकल, पुरानी बीमारी की मुख्य वजह, से हुई ऑक्सीकरण क्षति को बेअसर कर सकते हैं। शरीर को इस प्रक्रिया से खुद को बचाने के लिए कोई तरीका मुहैया करवाना रोग की रोकथाम में महत्वपूर्ण है। 

स्पाइरुलिना, कोलेस्ट्रॉल और रक्तचाप 

उच्च कोलेस्ट्रॉल हृदय रोग के लिए एक जोखिम कारक है। अगर आहार में परिवर्तन और व्यायाम कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने के लिए पर्याप्त नहीं हैं, तो डॉक्टर कोलेस्ट्रॉल को कम करने वाली दवाएं लिखेंगे। स्पाइरुलिना कोलेस्ट्रॉल कम करने वाले हथियारघर में मौजूद एक खास हथियार की तरह है। मैक्सिकन आबादी पर वर्ष 2008 में किए एक अध्ययन में दिखाया गया कि स्पाइरुलिना उन परीक्षण विषयों में कोलेस्ट्रॉल और रक्त चाप को कम कर सकता है जिन्होंने शैवाल का सेवन किया था। 

वर्ष 2014 के एक और हालिया अध्ययन से पता चला है कि रोजाना लिया एक ग्राम स्पाइरुलिना चार महीने तक लेने से कुल कोलेस्ट्रॉल में 16 प्रतिशत की कमी हो सकती है। स्पाइरुलिना ट्राइग्लिसराइड्स (वसा) और LDL (खराब) कोलेस्ट्रॉल को भी कम करता है। वर्ष 2015 के एक अध्ययन ने उन लोगों में स्पाइरुलिना के कोलेस्ट्रॉल कम करने वाले लाभों की पुष्टि की जिन्होनें इसका सेवन किया। 

स्पाइरुलिना और डायबिटीज नियंत्रण 

टाइप 2 डायबिटीज हृदय रोग, स्ट्रोक, गुर्दे की बीमारी और स्मृति हानि में एक प्रमुख योगदानकर्ता है। टाइप 2 डायबिटीज वाला व्यक्ति अपने आहार की निगरानी और व्यायाम करके अपने ग्लूकोज के स्तर को नियंत्रित कर सकता है। मौखिक दवाएं अक्सर उन लोगों को लिखी जाती हैं जिन्हें सहायता की आवश्यकता होती है। स्पाइरुलिना दैनिक दिनचर्या के लिए भी एक उपयोगी इज़ाफ़ा हो सकता है।

पशुओं का उपयोग करके किए गए अध्ययनों से पता चलता है कि स्पाइरुलिना रक्त शर्करा को नियंत्रित करने और डायबिटीज से होने वाली जटिलताओं को रोकने में मददगार हो सकता है, जैसे डायबिटिक गुर्दे की बीमारी। एक अन्य अध्ययन से पता चला है कि स्पाइरुलिना का उपयोग मुख्य रूप से डायबिटीज से संबंधित घावों के उपचार में किया जा सकता है। हालाँकि, आम उपयोग होने से पहले इस पर अधिक शोध किए जाने की आवश्यकता है। 

स्पाइरुलिना और गठिया में सूजन से मदद 

आर्थराइटिस (गठिया ) शब्द ग्रीक शब्द “आर्थ्रॉन” जिसका अर्थ है "जोड़" और लैटिन शब्द “आइटिस” जिसका अर्थ है "सूजन&" से मिलकर बना है। गठिया का शाब्दिक अर्थ है “जोड़ की सूजन”. सामान्य तौर पर, गठिया के दो मुख्य प्रकार हैं। सबसे आम ऑस्टियोआर्थराइटिस (~ 95%) है, जो उम्र बढ़ने के साथ होती है। दूसरा, और कम से कम सामान्य प्रकार, संधिशोथ (~ 5%), जो एक ऑटो-इम्यून स्थिति होती है।

वर्ष 2006 के एक अध्ययन से पता चला है कि स्पाइरुलिना में सूजन-रोधी गुण होते हैं और यह गठिया से संबंधित सभी प्रकार के दर्दों में मदद कर सकता है। वर्ष 2015 में एक और हालिया अध्ययन ने इसी तरह के निष्कर्षों को दिखाया, यह दर्शाता है कि COX-2, NSAID (गैर-स्टेरायडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स), जैसे कि इबुप्रोफेन और नेप्रोक्सेन, द्वारा लक्षित एक एंजाइम , के रक्त के स्तर को कम करके स्पाइरुलिना ने सूजन को कम कर दिया और इसके दवाइयों जैसे दुष्प्रभाव भी नहीं है। 

स्पाइरुलिना और शरीर का विषहरण

स्पाइरुलिना शरीर से भारी धातुओं को निकाल सकती है । आर्सेनिक, जो न्यूरोलॉजिकल रोग और मधुमेह के बढ़ते जोखिम से जुड़ा है, को स्पाइरुलिना के स्वास्थ्य गुणों का उपयोग करके शरीर से बाहर निकाला जा सकता है, ऐसा भारत उन स्थानों पर किए एक अध्ययन से पता चला है जहां स्थानीय जल आपूर्ति में आर्सेनिक का उच्च स्तर था।

स्पाइरुलिना, अल्जाइमर और पार्किंसंस रोग 

लोगों की उम्र बढ़ने के साथ-साथ न्यूरोडीजेनेरेटिव रोग अधिक सामान्य हो जाते हैं। एक स्वस्थ आहार, शारीरिक व्यायाम, और शब्द खोज और क्रॉसवर्ड जैसी दिमागी पहेलियां, इन सभी को उम्र के साथ बढ़ते हुए मस्तिष्क में संज्ञानात्मक हानि को रोकने में एक समग्र दृष्टिकोण के हिस्से के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।

स्पाइरुलिना भी एक भूमिका अदा कर सकती है। Journal of Alzheimer’s Disease में वर्ष 2010 के एक अध्ययन से पता चला है कि कुछ अन्य सप्लीमेंट जैसे कि करक्यूमिन के अलावा, स्पाइरुलिना एमाइलॉयड प्लाक के गठन को रोक सकता है, जिसे अल्जाइमर रोग का कारण माना जाता है। 

स्पाइरुलिना और मोतियाबिंद की रोकथाम 

जैसे-जैसे व्यक्ति की उम्र बढ़ती है, उन्हें मोतियाबिंद के होने का खतरा बढ़ जाता है, जो ऑक्सीकरण की वजह से आंख के लेंस के धुंधला होने से होता है। वर्ष 2013 और 2014 के अध्ययन से पता चलता है कि स्पाइरुलिना में मौजूद सक्रिय संघटक फ़ाइकोसायनिन मोतियाबिंद को बनने से रोकने में मदद कर सकता है। रोकथाम सबसे अच्छी दवा है!

स्पाइरुलिना और फाइब्रोमायल्गिया 

फाइब्रोमायल्गिया का आमतौर पर निदान तब किया जाता है जब किसी व्यक्ति के शरीर में दर्द और मांसपेशियों में पीड़ा होती है और किसी अन्य कारण का पता नहीं चलता है। पुरुषों की तुलना में महिलाओं के प्रभावित होने की अधिक संभावना है। कई लोगों के लिए, “लीकी गट” मुख्य वजहों में से एक होता है। एक छोटे से अध्ययन से पता चला है कि स्पाइरुलिना फाइब्रोमायल्गिया के लक्षणों को कम करने में सहायक हो सकता है। यह संभवतः इसकी प्रीबायोटिक(a food for the intestine’s good bacteria) क्षमता और शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने की इसकी क्षमता के कारण है।

संदर्भ:

  1. Nutrition. 2010 Feb;26(2):175-83. doi: 10.1016/j.nut.2009.03.010. Epub 2009 Aug 5.
  2. Malanga, G. and Puntarulo, S. (1995), Oxidative stress and antioxidant content in Chlorella vulgaris after exposure to ultraviolet‐B radiation. Physiologia Plantarum, 94: 672-679. doi:10.1111/j.1399-3054.1995.tb00983.x
  3. J Nutr Sci Vitaminol (Tokyo). 2006 Dec;52(6):457-66.
  4. Jpn Heart J. 1978 Jul;19(4):622-3.
  5. Clin Nutr. 2018 Dec;37(6 Pt A):1892-1901. doi: 10.1016/j.clnu.2017.09.019. Epub 2017 Oct 3.
  6. Kim S, Kim J, Lim Y, Kim YJ, Kim JY, Kwon O. A dietary cholesterol challenge study to assess Chlorella supplementation in maintaining healthy lipid levels in adults: a double-blinded, randomized, placebo-controlled study. Nutr J. 2016;15(1):54. Published 2016 May 13. doi:10.1186/s12937-016-0174-9
  7. Clin Nutr. 2018 Dec;37(6 Pt A):1892-1901. doi: 10.1016/j.clnu.2017.09.019. Epub 2017 Oct 3.
  8. Clin Nutr ESPEN. 2015 Jun;10(3):e95-e101. doi: 10.1016/j.clnesp.2015.04.002. Epub 2015 May 21.
  9. Drug Chem Toxicol. 1984;7(1):57-71.
  10. Karkos PD, Leong SC, Karkos CD, Sivaji N, Assimakopoulos DA. Spirulina in Clinical Practice: Evidence-Based Human Applications. Evidence-based Complementary and Alternative Medicine : eCAM. 2011;2011:531053. doi:10.1093/ecam/nen058.
  11. Spirulina, The Whole Food Revolution by Larry Switzer
  12. Hawaiian Spirulina by Gerald R. Cysewski, PhD. Copyright 2015 by Cayanotech Corporation
  13. Inflamm Res. 1998 Jan;47(1):36-41.
  14. Crit Rev Toxicol. 1993;23(1):21-48.
  15. Lipids Health Dis. 2007 Nov 26;6:33.
  16. J Sci Food Agric. 2014 Feb;94(3):432-7. doi: 10.1002/jsfa.6261. Epub 2013 Jul 10.
  17. Biomed Res Int. 2015;2015:486120. doi: 10.1155/2015/486120. Epub 2015 Jan 22.
  18. Nutr Res. 2016 Nov;36(11):1255-1268. doi: 10.1016/j.nutres.2016.09.011. Epub 2016 Oct 4.
  19. Am J Physiol Regul Integr Comp Physiol. 2013 Jan 15;304(2):R110-20. doi: 10.1152/ajpregu.00648.2011. Epub 2012 Oct 31.
  20. EXCLI J. 2015 Mar 2;14:385-93. doi: 10.17179/excli2014-697. eCollection 2015.
  21. Biol Pharm Bull. 2006 Dec;29(12):2483-7.
  22. Clin Toxicol (Phila). 2006;44(2):135-41.
  23. J Alzheimers Dis. 2010;19(4):1359-70. doi: 10.3233/JAD-2010-1331.
  24. Biol Trace Elem Res. 2013 Jan;151(1):59-67. doi: 10.1007/s12011-012-9526-2. Epub 2012 Oct 20.
  25. Merchant RE, Andre CA. A review of recent clinical trials of the nutritional supplement   Chlorella pyrenoidosa in the treatment of fibromyalgia, hypertension, and ulcerative colitis. Altern Ther Health Med. 2001;7:79-80,82-91.

संबंधित लेख

सभी देखें

Wellness

गर्भवती होने का प्रयास करने के लिए सर्वोत्तम पूरक

Wellness

क्या आपको इन वसा में घुलनशील विटामिनों की कमी है?

Wellness

CLA (संयुग्मित लिनोलिक एसिड) के लिए एक त्वरित गाइड