checkoutarrow
IN
24/7 सहायता
beauty2 heart-circle sports-fitness food-nutrition herbs-supplements
सौंदर्य

फेस मास्क से त्वचा की विभिन्न समस्याओं का सामना करें

29 नवंबर 2019

इस लेख में:


फेस मास्क त्वचा का पोषण करने और विशिष्ट चिंताओं से निपटने के एक शानदार तरीके की पेशकश करते हैं।

एक स्वस्थ और चमकदार आभा बनाए रखने के लिए, त्वचा की देखभाल की एक बढ़िया दिनचर्या को निभाना महत्वपूर्ण है। तथापि, सुबह और रात के समय त्वचा की देखभाल के उत्पाद लगाने की सावधानी बरतने वाले लोगों को भी कभी-कभी रंगरूप से संबंधित मुश्किल समस्याओं का सामना करना पड़ता है। 

यह वह समय होता है जिसमें फेस मास्क की जरूरत पड़ती है। "मास्क त्वचा को गुदगुदा, जलयोजित और संतुलित बनाने के लिए अधिक मात्रा में सक्रिय घटक प्रदान कर सकते हैं, " ऐसा लुइसियाना स्टेट युनिवर्सिटी में त्वचारोग विज्ञान के प्रोफेसर डॉ. डेर्ड्रे हूपर कहते हैं। जबकि नियमित दिनचर्या त्वचा को समय के साथ सक्रिय घटकों की छोटी मात्राओं से संतृप्त कर सकती है, फेस मास्क त्वचा को थोड़े से समय में अच्छे घटकों की अतिरिक्त खुराक अवशोषित करने देता है।

तथापि, सभी मास्क एक ही तरह से नहीं बनाए जाते हैं। कुछ प्रकार के मास्क अत्यंत विशिष्ट लक्ष्यों को हासिल करने के लिए बनाए जाते हैं। जबकि कुछ मास्क त्वचा से अतिरिक्त तेल और चिपचिपे पदार्थों को निकालने के लिए परिकल्पित होते हैं, अन्यों को रंगरूप को नमी की एक बड़ी खुराक वापस प्रदान करने के लिए बनाया जाता है। 

त्वचा की विशिष्ट चिंताओं को संबोधित करने वाले विभिन्न फेस मास्कों के बारे में जानने के लिए आगे पढ़ें।

 त्वचा की समस्या: मुहांसे और बहुत ज्यादा तेल

त्वचा को स्वस्थ और चमकीली रखने के लिए तेल के आधार की जरूरत पड़ती है। तथापि, जब त्वचा बहुत ज्यादा तेल पैदा करती है, उससे धब्बे, काले मस्से और अत्यधिक चमकीला रंगरूप उत्पन्न हो सकता है। जबकि सोख्ता कागज़ और टोनर नियमित रूप से उपयोग करने पर मदद करते हैं, मुहांसे कम करने वाला क्ले मास्क त्वचा से तेल को खींच निकालने और रंगरूप के संतुलन को बहाल करने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है।

न्यूयॉर्क के त्वचारोग विशेषज्ञ डॉ. मिचेल ग्रीन स्पष्ट करते हैं, "चिकनी मिट्टी रोम छिद्रों की गहराई में जाकर अशुद्धियों को बाहर खींच लेती है।" क्ले मास्क चेहरे पर लगाने के समय गीला महसूस होता है, लेकिन जैसे-जैसे वह सूखता है, उसमें सख्ती और कसाव आ जाता है। जब ऐसा होता है, तब चिकनी मिट्टी रोम छिद्रों में से अतिरिक्त तेल और सीबम को बाहर खींच लेती है और इसके साथ ही त्वचा के भीतर ढेर सारे अच्छे एंटीऑक्सिडैंट्स वापस डाल देती है।

यह ध्यान में रखना महत्वपूर्ण है कि क्ले मास्क बहुत अधिक खुश्की पैदा कर सकते हैं। यह एक आम गलतफ़हमी है कि तैलीय त्वचा में से धब्बों और अतिरिक्त चमक को कम करने के लिए उसे "सुखाने" की जरूरत होती है। वास्तव में यह सत्य नहीं है। दरअसल, तैलीय त्वचा को सुखाने से रंगरूप आतंकित हो सकता है और अचानक होने वाली खुश्की के कारण तेल का अधिक उत्पादन करने लगता है।

इसलिए, क्ले मास्क का उपयोग करने के बाद एक जलयोजित करने वाले और मुहांसों के लिए सुरक्षित मॉइस्चराइज़र का उपयोग करना महत्वपूर्ण होता है। धब्बा-रोधी टोनर या ट्रीटमेंट का नियमित उपयोग करते समय क्ले मास्कों के साथ सावधानी बरतें। इससे यह सुनिश्चित करने में मदद मिल सकती है कि रंगरूप जलयोजित बना रहे और उसके स्वस्थ रहने के लिए जरूरी नमी न छिन सके।

 त्वचा की समस्या: फीकी या झुर्रीदार दिखना 

उम्र के बढ़ने के साथ त्वचा अपना कुछ चमकीलापन सहज रूप से खो देती है और अधिक फीकी दिखने लग सकती है। फीकेपन और उम्र के बढ़ने के संकेतों का सामना एक्सफोलिएट करने या उजला बनाने के लिए तैयार किए गए मास्कों का उपयोग करके किया जा सकता है। यह आदर्श रूप से यह कहने का आकर्षक तरीका है कि मास्क में अम्लीय या भौतिक एक्सफोलिएंट्स की सुरक्षित मात्रा होती है जो मृत त्वचा कोशिकाओं को हटाने में मदद करते हैं और नई कोशिकाओं के जीवंत होने को प्रोत्साहित करते हैं।

"अम्ल" शब्द से परेशान मत हों। उजला करने वाले मास्क आम तौर पर ग्लाइकोलिक या लैक्टिक एसिड से युक्त होते हैं, जो अक्सर त्वचा की कोशिकाओं के टर्नओवर को प्रोत्साहित करने में मदद करते हैं। घर में बने मास्कों में इनकी प्रतिशत मात्रा पेशेवर रासायनिक पील्स में पाई जाने वाली मात्रा से कम होती है, जिससे वे एक सुरक्षित विकल्प बन जाते हैं।

एसिड से युक्त उजला करने वाले मास्क का उपयोग करते समय, हमेशा सावधानी बरतें। जबकि त्वचा में हल्की सी झुनझुनी महसूस होना सामान्य है, यदि जलन की अनुभूति होने लगे तो सतर्क हो जाएं। ऐसा होने पर मास्क को तत्काल धो डालें।

क्ले मास्क की तरह ही, एक्सफोलिएट या उजला करने वाले मास्क भी कारगर परिणाम दे सकते हैं। तथापि, वे अक्सर इस प्रक्रिया के दौरान त्वचा को शुष्क कर देते हैं। यही वजह है कि इनमें से किसी मास्क के उपयोग के बाद कोई गाढ़ी और जलयोजक नाइट क्रीम लगानी चाहिए। इन मास्कों को केवल शाम को लगाने की कोशिश करें क्योंकि अम्ल सूरज के प्रति त्वचा की संवेदनशीलता को बढ़ा सकते हैं। इसके अलावा, अम्ल पर आधारित उत्पादों का नियमित उपयोग करते समय त्वचा को दिन के समय सनस्क्रीन से सुरक्षित करना न भूलें।

 त्वचा की समस्या: सूखी और पपड़ीदार

जब रंगरूप इतना सूख जाता है कि पपड़ी बनने लगती है, तो इसका मतलब है कि त्वचा को उसकी जरूरत की नमी नहीं मिल रही है। जबकि कुछ लोगों को सारे साल नियमित रूप से शुष्क त्वचा का सामना करना पड़ता है, कई लोग सर्दी के ठंडे दिनों में खास तौर पर प्रभावित होते हैं।

तैलीय या फीकी त्वचा के विपरीत, शुष्क त्वचा को ऐसी किसी चीज की जरूरत नहीं होती है जो अप्रिय हो सकती है या उसे इससे भी ज्यादा शुष्क कर सकती है। इसकी बजाय, उसे यथासंभव अधिक जलयोजन और नमी की जरूरत होती है। हाइड्रेटिंग मास्क खुश्की को कम करने और रंगरूप में नमी को बहाल करने में मदद कर सकते हैं।

हाइड्रेटिंग मास्क त्वचा की देखभाल के उत्पादों को लॉक इन करने और त्वचा की नमी को कम होने से रोकने के लिए बनाए जाते हैं। आपको जैतून के तेल, विटामिन ई और ऐलो जैसे घटकों की तलाश करनी चाहिए जो रंगरूप को पहले से ज्यादा लचीला और जलयोजित बना सकते हैं।

याद रखें, शुष्क त्वचा नमी के लिए बेसब्री से तड़पती है। जबकि लगभग सभी तरह के रंगरूप मॉइस्चराइज़र के नियमित उपयोग से लाभान्वित होते हैं, शुष्क त्वचा को खास तौर पर नियमित जलयोजन की जरूरत पड़ती है। ऐसी गाढ़ी क्रीमों की तलाश करें जिनमें त्वचा को उसकी जरूरत की नमी देने वाले जलयोजक घटक और एंटीऑक्सिडैंट्स होते हैं। यदि लगता है कि कोई मॉइस्चराइज़र अपने बलबूते पर फायदा नहीं पहुंचा रहा है, तो इसके पश्चात् कोई अल्ट्रा-नरिशिंग फेस ऑइल लगाकर देखें।

त्वचा की समस्या: संवेदनशील या जलन-युक्त 

ज्ञात रहे कि फेस मास्क का उपयोग करना विशिष्ट त्वचा समस्याओं से निपटने का कारगर तरीका है। तथापि, त्वचा के रोगों से संबंधित लाभों के अलावा, फेस मास्क घर पर विश्राम करने और तरोताज़ा होने का एक मज़ेदार तरीका भी हैं। त्वचा को खुश करने और थोड़ा अतिरिक्त स्नेह देने के लिए शीट मास्क का उपयोग करके देखें। इस प्रकार के मास्क एशिया में शुरू हुए और हाल ही में सारी दुनिया में बहुत लोकप्रिय हो गए हैं।

शीट मास्क कागज का एक पत्रक होता है जिसे अत्यंत सांद्र सीरम में भिगोया जाता है। मास्क को चेहरे पर लगाने के बाद, इसे पैकेज पर अनुशंसित समय (आम तौर पर लगभग 10 - 15 मिनट) के लिए रखकर निकाल दिया जाता है। अधिकांश अन्य मास्कों के विपरीत, शीट मास्क के अवशेषों को धोकर निकालने की जरूरत नहीं पड़ती है। इसकी बजाय, इसे सहज रूप से अवशोषित होने दें या त्वचा में मल दें। शीट मास्क के उपयोग में अत्यधिक धुलाई की जरूरत न होने के कारण, वे ऐसी त्वचा के लिए अच्छा विकल्प हैं जो संवेदनशील होती है या जिसमें आसानी से जलन पैदा होती है। 

एक अतिरिक्त फायदे के रूप में, पैकेज में या त्याग दिए गए मास्क में बचे हुए सीरम को गर्दन, सीने या शरीर पर मला जा सकता है जिससे त्वचा के इन अक्सर उपेक्षित क्षेत्रों को अतिरिक्त जलयोजन और पोषण मिल सकता है।

सभी फेस मास्कों को दुकान में खरीदने की जरूरत नहीं है। त्वचा को घर पर आसानी से बनाई गई किसी चीज से संतुष्ट करें। आप घर पर बना प्रोबायोटिक फेस मास्क आजमा सकते हैं। इस मिश्रण को एक प्रोबायोटिक कैप्सूल, ऑर्गैनिक योगर्ट और थोड़े से अल्ट्रा-हाइड्रेटिंग जैतून के तेल से बनाया जाता है। घर में बने मास्क सस्ते, बनाने में आसान और त्वचा की कई प्रकार की समस्याओं का उपचार करने में उपयोगी होते हैं।

संदर्भ:

  1. Gahara, M.; Do Face Masks Actually Do Anything for Your Skin?; Fitness Magazine Website
  2. Jaret, P.; How To Manage Oily Skin; WebMD Website
  3. Komar, M.; Do Face Masks Actually Work? 4 Dermatologists Weigh In; Bustle Website

संबंधित लेख

सभी देखें

सौंदर्य

अपनी दैनिक सुंदरता देखभाल में इन बेबी उत्पादों को शामिल करें

सौंदर्य

मिनरल बाथ लेने के स्वास्थ्य संबंधी लाभ

सौंदर्य

डे और नाइट क्रीम में क्या अंतर है?