checkoutarrow
IN
24/7 सहायता
beauty2 heart-circle sports-fitness food-nutrition herbs-supplements
पोषण

बच्चों को सब्ज़ियाँ खाने के लिए तैयार करने के सुझाव

16 अगस्त 2019

लेखिका चेरिलिन केकचिनी, एमडी

एक बालरोग विशेषज्ञ होने के नाते, माता-पिता मुझसे अक्सर बच्चों को सब्ज़ियाँ खाने को तैयार करने के लिए सुझाव और युक्तियाँ पूछते हैं। कई बार, माता-पिता कुंठित और ऐसा महसूस करते हैं कि जैसे बच्चों को सब्ज़ियाँ खाने के लिए प्रोत्साहित करने के उनके प्रयासों का उल्टा असर हो रहा है। कई लोग स्वीकार करते हैं कि उन्होंने हार मान ली है और अब वे अपने बच्चे के आहार में सब्ज़ियों को शुरू करने की कोशिश भी नहीं करते हैं क्योंकि यह बड़ा मुश्किल का काम है।

बच्चे फलों को अधिक आसानी से स्वीकार करते हैं क्योंकि वे प्राकृतिक रूप से मीठे होते हैं, इसलिए इस खाद्य समूह के साथ माता-पिता को कम संघर्ष करना पड़ता है, लेकिन इसके साथ भी कुछ चुनौतियाँ उठ खड़ी हो सकती हैं। उदाहरण के लिए, कुछ बच्चों को कुछ फलों, जैसे केलों का स्वाद कतई पसंद नहीं होता, लेकिन ब्लैकबेरी जैसे अन्य विकल्प भा सकते हैं। अन्य बच्चे फलों की बनावट या बीजों (जैसे स्ट्राबेरी या किवी) को नापसंद करते हैं, जबकि अन्य बच्चों को इससे कोई परेशानी नहीं होती। यथासंभव भिन्न प्रकार के फलों की पेशकश करके आप जान सकते हैं कि आपके बच्चे को कौन से खास फल पसंद हैं।

मैं हमेशा माता-पिता को सीधे-सादे, सरल कदम सुझाने का भरसक प्रयास करती हूँ जिनसे खाने का समय कम मुश्किल हो सके। यहाँ पेश है ऐसी चीजों की एक छोटी सी सूची जिसे आप तब आजमा सकते हैं जब आपको अपने बच्चे को यह समझाना होता है कि सब्ज़ियाँ बुरी नहीं होती हैं: 

1. इसे मसालेदार बनाएं! 

मसाले मक्खन या चीज़ जैसे अस्वास्थ्यकर विकल्प जोड़कर पोषण संबंधी मूल्य का त्याग किए बिना अतिरिक्त जायकों से परिचित कराने का शानदार तरीका हैं। एक खास बात जो मुझे पसंद है वह है इटैलियन मसाले। आप ऑर्गैनिक मसाले भी आजमा सकते हैं जैसे लाल मिर्च, हिमालयी गुलाबी नमक, लहसुन का चूर्ण या हल्दी, इत्यादि। इन मसालों में से एक का बस चुटकी भर आपके बच्चे को बिना किसी आनाकानी के उन सब्ज़ियों को खाने को आकर्षित कर सकता है। 

2. बागडोर सौंपें

बच्चे नियंत्रण हाथ में लेना पसंद करते हैं, खास तौर पर जब वे छोटे होते हैं। इसलिए, उन्हें तीन विकल्पों में से एक सब्ज़ी चुनने का अवसर दें और उनसे पूछें कि वे उसे कैसे खाना चाहते हैं। क्या वे उसे स्लाइस के रूप में पसंद करेंगे या चौकोर टुकड़ों के रूप में? क्या वे उसे किसी अन्य खाने की चीज में मिलाकर खाना पसंद करेंगे, जैसे चावल या पास्ता? यदि वे सब्ज़ी को किसी अन्य भोजन, जैसे पास्ता के साथ मिलाने का चुनाव करते हैं, तो यह उस भोजन में अतिरिक्त पोषण संबंधी लाभ शामिल करने का शानदार मौका है। मिसाल के लिए, आप उसे किसी अन्य उत्पाद से बदल सकते हैं जैसे पौष्टिक खमीर को कसे हुए चीज़ की जगह इस्तेमाल करके प्रोटीन और बी विटामिन शामिल किए जा सकते हैं। इसे भुनी हुई सब्ज़ियों सहित किसी भी चीज पर छिड़कें और उसके जायके में हल्की सी वृद्धि करें!

3. पुरानी चीज को नए रूप में फिर से पेश करें

अक्सर, बच्चे किसी सब्ज़ी को पहली बार देने पर खाने से इंकार कर देते हैं, लेकिन यदि आप कुछ दिनों बाद फिर से कोशिश करते हैं, तो वे उसे आजमाने को तैयार हो जाते हैं। खाद्य पदार्थों को फिर से पेश करना बच्चों को इस बात पर विचार करने के लिए प्रोत्साहित करने का अच्छा तरीका है कि वे वास्तव में उस स्वाद को नापसंद करते हैं या नहीं। साथ ही, यदि आप सब्ज़ी को अलग तरीके से प्रस्तुत करते हैं (स्टीम करके बनाम ग्रिल करके), वह अंतर ही वह एक चीज हो सकती है जिससे बच्चा निर्णय लेता है कि उसकी मूल धारणा बदल गई है। यह विविधता एक बढ़िया युक्ति है और कई माता-पिता इसे तब उपयोगी पाते हैं जब सभी तरह की संभव सब्ज़ियों की पेशकश करने और बच्चे द्वारा उन सभी को अस्वीकार करने के बाद उनके पास कोई और विकल्प नहीं बचते हैं। आजमाने का एक और शानदार विकल्प है हरी सब्ज़ियाँ और सुपरफूड का उपयोग एक स्मूदी में करना जिसमें फल और सब्ज़ियाँ दोनों शामिल हों। सब्ज़ियाँ एक जायके में छिप जाएंगी, लेकिन बच्चा उन्हें फिर भी खाएगा और दोनों खाद्य समूहों के पोषण-संबंधी लाभों का फायदा एक साथ उठाएगा। स्मूदी एक बहुत अलग प्रस्तुतीकरण और गाढ़ेपन से भी युक्त होते हैं और वे कई बच्चों को पसंद हैं।

4. उन्हें शामिल करें और उनके मॉडल बनें

अपने बच्चे को खाना बनाने में मदद करने को कहना सब्ज़ियों सहित नए खाद्य पदार्थों को आजमाने के लिए प्रोत्साहित करने का शानदार तरीका है। बच्चे गतिविधियों में भाग लेना पसंद करते हैं और यदि आप खाना बनाने के दौरान खाद्य पदार्थों को आजमाने के विभिन्न तरीके प्रदर्शित करते हैं, तो वे भी ऐसा ही करना चाह सकते हैं। यदि बड़े भाई-बहन भी सब्ज़ियाँ खाकर दिखाते हैं, तो इससे छोटे बच्चों को भी उन्हें आजमाने और उनका स्वाद लेने की प्रेरणा मिल सकती है।

कुछ बच्चे दूसरों से अधिक मीन-मेख निकालने वाले हो सकते हैं, इसलिए यदि आप उचित पोषण के बारे में चिंतित हैं, तो खाने की आदतों के बारे में अतिरिक्त संकेतों के लिए अपने बालरोग विशेषज्ञ से बात करें। एक दैनिक मल्टीविटामिन यह सुनिश्चित करने का उपयोगी तरीका है कि भले ही आपका बच्चा या बच्ची खास तौर पर मीन-मेख निकालती हो, तब भी उसे पर्याप्त पोषण मिल रहा है। ऐसे मल्टीविटामिन खोजें जो ऑर्गैनिक, ग्लूटेन-रहित और जिलेटिन-रहित हों। चुनने के लिए कई अलग-अलग जायके उपलब्ध हैं ताकि आप अपने बच्चे की पसंद के आधार पर सर्वश्रेष्ठ चीज चुन सकें।    

अंत में, उम्मीद मत खोएं! कई बच्चे अपनी पसंद के विभिन्न स्वादों और बनावटों को समझते और नए खाद्य पदार्थों पर प्रयोग करते समय फलों और सब्ज़ियों को अस्वीकार कर देते हैं। बच्चों के बढ़ते और परिपक्व होते समय इस तरह के बर्ताव की अपेक्षा की जाती है। अपने बच्चे में कौतूहल उत्पन्न करने का अवसर बढ़ाने के लिए मसालों का उपयोग करके विभिन्न जायकों और विविध प्रस्तुतीकरणों और पकाने की विधियों को आजमाना याद रखें। जब आप सक्षम हों तब बागडोर सौंपें, संभव होने पर खाना बनाने में बच्चों को शामिल करें और जब भी आपको मौका मिले, तब खाने के सेहतमंद स्वभावों का मॉडल बनकर दिखाएं।

संबंधित लेख

सभी देखें

पोषण

इस सुपरफूड के साथ सूजन से लड़ें और पेट के स्वास्थ्य में सुधार करें

पोषण

उम्दा पौष्टिक और भूख बढ़ाने वाला स्नैक प्लैटर बनाएं

पोषण

ये तीन मसाले अधिक स्वस्थ और स्वादिष्ट भोजन की कुंजी हैं